सड़क सुरक्षा से जुड़ी कहानियां जो जिंदगी के सबक सिखाती हैं

इस पुस्तक का एक-एक पन्ना कीमती है जो हमें शिक्षा देता है कि जिंदगी की क्रद करो.

सफर करते समय सुरक्षा नियमों का पालन करना कितना जरुरी है यह उन छोटी-छोटी कहानियों से सीखा जा सकता है जिन्हें देश के जानेमाने लेखकों ने पहली बार एक साथ रचा है। ‘हैव ए सेफ जर्नी’ पुस्तक के माध्यम से यह बताने की कोशिश की गयी है कि जिंदगी कीमती है, उसे यूं न गंवाया जाये। सड़क पर सफर करते समय हर नियम का पालन करना जरुरी है, वरना उसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है। जान जोखिम में डालकर यात्रा करना बेवकूफी के सिवा कुछ भी नहीं है।

have_a_safe_journey_book_review
यह पुस्तक अलग इसलिए भी है क्योंकि इसमें अलग-अलग क्षेत्र, अनुभव, विचार, उम्र आदि के लोग शामिल हैं। यह साझा प्रयास एक बड़ी सार्थक पहल का नतीजा है जिसकी जरुरत हर किसी को है। किताब का प्रकाशन सड़क परिवहन विभाग और राजमार्ग मंत्रालय, नैचूरल हैबिटेट प्रिज़र्वेशन सेंटर और महेंद्रा ट्रक एंड बस डिविज़न की पहल है जिसे (Amaryllis)मंजुल प्रकाशन ने प्रकाशित किया है।

किताब में जागरुकता प्रदान करने वाली 25 कहानियां हैं। इन कहानियों में दर्द, अपनों को खोना, विश्वास के साथ जीना आदि तरह के रंग भरे हुए हैं। कहना बिल्कुल सही होगा कि यह कहानियां हमारा नजरिया बदल देंगी और हमें सिखायेंगी कि सुरक्षा कितनी जरुरी है। साथ ही यह भी बतायेंगी कि किसी की जान कितनी कीमती होती है। अपनों से बिछड़ने का दर्द कैसा होता है और सड़क पर मामूली कतरे-सी गलती किस तरह हमारी जिंदगी बदल सकती है। इस पुस्तक का एक-एक पन्ना कीमती है जो हमें शिक्षा देता है कि रौशनी को अंधेरे में तब्दील होते देर नहीं लगती इसलिए जिंदगी की क्रद करो सिर्फ कुछ सड़क नियमों का पालन करते हुए।

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी, आनंद महेंद्रा, सुमंत बत्रा, तुहिन सिन्हा और प्रकाशक ने पुस्तक के प्रारंभ में अपने बहुमूल्य विचार प्रस्तुत किये हैं।

‘सामाजिक बदलाव लाने में साहित्य हमेशा एक बहुत शक्तिशाली माध्यम रहा है।’   -नितिन गडकरी.
-----------------------------------------------------------------------------------
‘कथा एक दर्पण है जो वास्तविक जीवन को और अधिक स्पष्ट रूप से दिखाती है।’  -आनंद महेन्द्रा.
-----------------------------------------------------------------------------------
‘बौद्धिक संस्कृति के रूप में साहित्य में मनोरंजन और शिक्षित करने की क्षमता है।’   -सुमंत बत्रा.
-----------------------------------------------------------------------------------
‘एक सड़क दुर्घटना संभवतः जीवन के अंत के लिए सबसे अप्राकृतिक और अप्रत्याशित तरीका है।’   -तुहिन सिन्हा.
have_a_safe_journey_amaryllis

भारत के लोकप्रिय रचनाकारों आनंद नीलकंठन, अश्विन सांघी, किरन मिनराल, पंकज दूबे, प्रियंका सिन्हा झा, शाइनी एंटनी और विक्रम कपूर की कहानियां सड़क सुरक्षा नियमों का सख्ती से पालन करने की सलाह देती हैं।

किताब में संकलित अन्य 18 कहानियां सड़क सुरक्षा नियमों से संबंधित एक प्रतियोगिता में सर्वेश्रेष्ठ चुनी गयीं थीं।

ये लेखक हैं: अंबलिका, अनुकृति वर्मा, अरित्री चटर्जी, अरविन्द पेसी, बर्नाली रे. शुक्ला, दीपाली तनेजा, गीतांजलि मारिया, केतकी पटवर्धन, मीरा राजगोपालन, रतनदीप आचार्य, रोशन राधाकृष्णनन, रोशनी छाबड़ा, सहर फात्मिा, संकेत चौधरी, तामरा सहगल, थॉमन जॉस, वीना नागपाल और विभा लोहानी.

पुस्तक की पहली कहानी, आनंद नीलकंठन की लोक कथा बताती है कि यदि राजकुमार नियमों का पालन करता हुआ रथ चलाता तो बेसहारा, अंधे बच्चे की उस तरह मौत न होती। राजा जो अपने इकलौते बेटे पर गर्व करता था, उसे एक गलती के कारण बुरी तरह शर्मिन्दा न होना पड़ता।

अश्विन सांघी ने अपनी कहानी में दुनिया की पहली कार सड़क दुघर्टना का जिक्र किया है। किताब की आखिरी कहानी विभा लोहानी ने लिखी है।

पुस्तक की सभी कहानियां रोचक, मनोरंजक और शिक्षाप्रद हैं। यह पुस्तक हर विद्यालय में पढ़ाई जानी चाहिए। युवा पीढ़ी को यह पुस्तक जरुर पढ़नी चाहिए ताकि सड़क नियमों के फायदे भली-भांति जान सकें।

'हैव ए सेफ जर्नी’
(Have A Safe Journey)
प्रकाशक : (Amaryllis) मंजुल प्रकाशन
पृष्ठ : 273


किताब ब्लॉग  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या हमेंगूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...

No comments