हाउ टू थिंक लाइक दा विंची : चित्रकारी और वैज्ञानिकता के बीच पुल

लिओनार्डो दा विंची कला के द्वारा जीवन की बारीकियों को समझने की कोशिश में लगे रहे.

लिओनार्डो दा विंची हरफनमौला व्यक्तित्व थे। उनपर डेनियल स्मिथ ने एक पुस्तक लिखी है जिसे पढ़ना 'दा विंची' के जीवन का सूक्ष्मता से अध्ययन किया गया है। उनके जीवन के अनगिनत पहलुओं को पाठकों के सामने लाने की कोशिश की गयी है। यह एक प्रेरणादायक पुस्तक है, जो हमें बहुत कुछ सोचने पर मजबूर करती है तथा उस महान व्यक्ति से रुबरु कराती है जो कुछ भी करने की काबिलियत रखता था। वह व्यक्ति जो अद्भुत कलाकार था, और आसमान में उड़ने के सपने देखता था। उसने संगीत, विज्ञान, गणित, सबकुछ समझ लिया था।

‘हाउ टू थिंक लाइक दा विंची’ को मंजुल प्रकाशन ने प्रकाशित किया है। पुस्तक के लेखक डेनियल स्मिथ ने 'हाउ टू थिंक' सीरीज में शरलोक होम्स, स्टीव जॉब्स, आइंस्टीन, बिल गेट्स, स्टीफन हाकिंग आदि पर किताबें लिखी हैं। लेखक ने जीनियस और अलग सोच रखने वाले महान लोगों की खास बातों का अध्ययन कर उन्हें प्रस्तुत किया है ताकि जीवन को देखने का हमारा नजरिया बदल सके और हम सफलता की सीढ़ियों और श्रेष्ठता की राह पर चल सकें।


दा विंची ने अपने समय से आगे का सोचना शुरु कर दिया था। वे कल्पनाओं को साकार होते हुए देखने में विश्वास करते थे। वे आविष्कार करके दुनिया को बदलना चाहते थे। जिंदगी को आसान करना उनकी सोच का अहम हिस्सा था। वे दिमाग की शक्ति को हमसे बेहतर जानते थे। उनका मस्तिष्क कई तरह से सोच सकता था, जिससे वे अपने विचारों को काबू कर सकते थे और हर बार नया करने का प्रयास करते रहते थे।

लेखक ने बताया है कि दा विंची एक कुशल इंजीनियर, वास्तुकार, मूर्तिकार, संगीतकार, गणितज्ञ और महान वैज्ञानिक थे। उन्होंने दो विश्व प्रसिद्ध कृतियां बनायीं -‘मोनालिसा’ और ‘द लास्ट सपर’।

दा विंची एक महान प्रवर्तक थे। उन्होंने हवा में उड़ने वाले मशीन की अवधारणा और सौर ऊर्जा पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ शरीर रचना विज्ञान, सिविल इंजीनियरिंग, ऑप्टिक्स और हाइड्रोनॉमिक्स में महत्वपूर्ण खोजों के लिए भी प्रबंध किया। अपने लेखन, चित्र और वैज्ञानिक आरेखों के हजारों पन्नों के माध्यम से उन्होंने बाद की पीढ़ियों के लिए ज्ञान का अद्वितीय योगदान दिया।

यह पुस्तक हमें कई खास बातें बताती है :
हम संघर्षों से सीखते हैं। पीछे हटे तो नुक्सान होगा, इसलिए आगे बढ़ते रहना चाहिए। लियोनार्डो दा विंची आगे बढ़ते रहे और तमाम जिंदगी वे पीछे नहीं हटे। उनपर कई आरोप भी लगे, वे अपना काम जारी रखे हुए थे। जमाने की परवाह नहीं करते हुए अपनी महानता को उन्नत करते रहे।
चित्रकार का दिमाग सबसे उच्च श्रेणी वाला होता है। वह कल्पनाओं की जुगलबंदी के बीच जीता है। उसके पास भविष्य को देखने, उसे महसूस करने और बदलने की ताकत होती है। दा विंची की सोच बहुत की विकसित थी। वे चित्रों से जीवन देखते थे। जीवन को समझने का सबसे शानदार जरिया वे कल्पनाओं को उकेरना मानते थे। भविष्य की योजनाओं को साकार करने में चित्र मददगार हैं।
हर पल कुछ नया करने का विचार होना जरुरी है। दा विंची विचारों में रमे रहते थे। विचारों का प्रवाह उनके मन में हरदम बहता रहता था। हर पल वे खुद में व्यस्त रहते हुए कुछ अच्छा और नया लाने की कोशिश करते रहते थे। यही कारण था कि वे फ्लाइंग मशीन जैसे विचारों को उकेर पाये।
जो सोचा जा सकता है, वो हो सकता है। दा विंची ने अपनी दूरदर्शी सोच से समाज को आईना दिखाने की कोशिश की कि अपनी कल्पनाओं को उड़ान भरने दो। वे जरुर कुछ नया और शानदार बाहर निकाल कर लायेंगी।

यह पुस्तक एक नाजायज बच्चे से महान आविष्कारक और महान व्यक्ति बनने वाले दा विंची से हमें मुखातिब कराती है। वह अपने हर कदम को सोच-समझकर रखता हुआ लक्ष्य को हासिल करने की जुगत में रहते थे। वे असंतुलन में जीना नहीं चाहते थे। उन्होंने चित्रकारी और वैज्ञानिकता के बीच एक पुल बना लिया था। वे भावनाओं को समझकर आध्यात्मिक भी होने की कोशिश में रहते थे। उनका मकसद यह था कि अपनी सोच-समझ से किस तरह बेहतर व्यवस्थायें की जायें। वे आजीवन इसमें जुटे रहे।

दा विंची एक श्रेष्ठ दार्शनिक थे। उनका दर्शन जीवन की कसौटियों पर खरा उतरता है। वे कला के द्वारा जीवन की बारीकियों को समझने की कोशिश में लगे रहे। उन्होंने संगीत और विज्ञान से भी जीवन को समझा। उनके कुछ विचार:
◼ विज्ञान जहाज का कप्तान है, और अभ्यास उसके सैनिक. जो विज्ञान जाने बिना अभ्सास से प्रेम करते हैं, वे उस नाविक की तरह हैं जो बिना पतवार और कम्पास के जहाज पर चढ़ता है, और वह कभी नहीं जान सकता कि कहां जा रहा है.
◼ एक चित्रकार के दिमाग को एक दर्पण जैसा दिखना चाहिए जो हमेशा उस विषय का रंग लेता है जो उसे प्रतिबिंबित करता है और पूरी तरह से उन वस्तुओं के चित्रों पर कब्जा कर लेता है, जितनी वस्तुएं उसके सामने होती हैं.
◼ चित्रकार प्रकृति के साथ प्रयास और प्रतिस्पर्धा करता है.
◼ जब भाग्य आता है, उसे मजबूती से जकड़ लो.
◼ मैं पवित्र किताबों को परम सत्य के लिए छोड़ देता हूं.

डेनियल स्मिथ की पुस्तक में सरलता से लिओनार्डो दा विंची के जीवन इतिहास को बताया गया है। किताब के अध्याय छोटे हैं जिनमें लेखक ने अपनी बात स्पष्टता से कह दी है। हर किसी को यह पुस्तक पढ़नी चाहिए खासकर युवा वर्ग को जिन्हें अपने विचारों को और अधिक विस्तारित करना है। यह पुस्तक आपकी समझ को परिष्कृत करेगी ताकि आप तर्क, बुद्धि, विवेक और सहजता से जीवन को विकसित कर सकें।

-----------------------------------------
'हाउ टू थिंक लाइक दा विंची’
(How To Think Like da Vinci)
लेखक : डैनियल स्मिथ
प्रकाशक : मंजुल प्रकाशन
पृष्ठ : 224
-----------------------------------------


किताब ब्लॉग  के ताज़ा अपडेट के लिए हमारा फेसबुक  पेज लाइक करें या हमेंगूगल प्लस  पर ज्वाइन कर सकते हैं ...

No comments