क्रिकेट की बेहद खास किताब, जो रोचक तथ्यों और किस्सों से भरपूर है

cricket-book-graham-tarrant-manjul
क्रिकेट की रोचक यात्रा में आपका स्वागत है जो आपको जज़्बाती और उत्साही संसार से रूबरू कराएगी.
क्रिकेट उसके दीवानों की जान है। यह खेल ऐसा है जो लोगों को उत्तेजित करता है।

गेंद-बल्ला-खिलाड़ी-स्टंप-मैदान-पिच और बहुत कुछ जो इससे जुड़ा है, क्रिकेट को खास बनाता है। भारत में यह सबसे बड़ा खेल है। यहाँ तो लोग क्रिकेट के लिए इतने फिदा हैं कि क्रिकेटर को ‘भगवान’ का दर्जा भी देते हैं। जब टीम जीतती है तो जमकर जश्न मनाया जाता है। हारने पर ‘शव-यात्रा’ निकाली जाती है। यानी पूरी शिद्दत से क्रिकेट को प्यार करने वाले अपनी भावनाओं का इजहार करते हैं।

'For The Love of Cricket' ऐसी किताब है जो क्रिकेट के बारे में हमें लगभग सबकुछ बताती है। इस सहेज कर रखने वाली पुस्तक के लेखक हैं ग्राहम टेरांट। मंजुल पब्लिशिंग हाउस ने इसका प्रकाशन किया है।

किताब की सबसे अच्छी बात है इसकी सरल भाषा और बेहद साफ-सुथरे तरीके से लेखक ने क्रिकेट के अलग-अलग पहलुओं का जिक्र किया है। उन्होंने खेल के इतिहास की रोचकता पर रोशनी डाली है और बताया है कि कैसे इसकी शुरुआत हुई? क्यों यह इतना पसंदीदा खेल बना? इसके पीछे कौन लोग थे जो क्रिकेट को इस मुकाम तक ले गए? .

खेल से जुड़े रोचक तथ्य हैरान करते हैं। किताब में लगभग सभी तथ्यों को बताया गया है जो जरूरी हैं। पहली बार जब आधिकारिक तौर पर क्रिकेट शुरू हुआ तो कैसी परिस्थितियाँ थीं, और किन लोगों ने खेल के भविष्य को लेकर सजगता दिखाई -इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के मध्य एशेज के प्रारंभ के भी किस्से शामिल किए गए हैं।

garham-tarrant-cricket-book

क्रिकेट में ऐसे सितारे आए जिन्होंने दुनिया को अपने हुनर से जगमगा दिया। ये हरफनमौला रहे, यादगार पारियों के बादशाह रहे, दिलों पर राज करते हैं और सम्मान के पात्र हैं। विलफ्रेड रोड्स और सिडनी बार्न्स की महानता के किस्से पढ़कर आप हैरान हो सकते हैं। सर डॉन ब्रैडमैन के लिए इज्जत और बढ़ जायेगी जब उनके बारे में अनकहे पहलू आप इस किताब में पढ़ेंगे। फिर शायद आप उनके बारे में और अधिक किताबों की तलाश में जुट जायें। ब्रैडमैन के आंकड़े इतने गजब हैं कि औसतन हर तीसरी पारी में उनका शतक होता था। उनका बल्लेबाजी में 99.94 का औसत तो अपने में रिकॉर्ड है। ऑस्ट्रेलिया का यह खिलाड़ी अपने दिलचस्प आंकड़ों की वजह से 'क्रिकेट का डॉन' भी कहलाता है।

हम गोडफ्रे इवेन्स, लेंस गिब्स, एलन डेविडसन, जहीर अब्बास जैसे दिग्गजों के साथ बैरी रिर्चड्स, सचिन तेंदुलकर, ब्रायन लारा, शैन वॉर्न, मुथैया मुरलीधरन के विषय में भी रोचक बातें पढ़ेंगे।

जरुर पढ़ें : फुटबॉल के हर रंग से वाकिफ कराती है 'For The Love of FOOTBALL'

यह किताब ऐसे खिलाड़ियों का जिक्र करती है जिनकी शारीरिक अक्षमता भी उन्हें उम्दा क्रिकेटर बनने से नहीं रोक पायी। मंसूर अली खान पटौदी की कार दुर्घटना में एक आंख लगभग खराब हो गयी थी। उन्होंने हिम्मत और भरोसे के साथ अपना खेल जारी रखा। वे 40 टेस्ट में भारतीय टीम के कप्तान रहे और कई शानदार रिकॉर्ड उनके नाम हैं। लेग-स्पिनर चन्द्रशेखर को पांच साल की उम्र में ही पोलियो हो गया था। उनका हाथ इसका शिकार हुआ। इस खिलाड़ी ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में एक हजार विकेट लिए तो वहीं ओवल में इंग्लैंड के विरुद्ध 38 पर 6 विकेट लेकर भारत को पहली सीरीज़ जिताई।

for-the-love-of-cricket-graham-tarrant

लाला अमरनाथ और उनके बेटों -सुरेन्द्र और मोहिन्दर अमरनाथ ने क्रिकेट की विरासत को नये आयाम दिए। इसी तरह इंग्लैंड के क्रिस ब्रॉड के बाद स्टुअर्ट ब्रॉड ने अच्छा खेल दिखाया। वहीं स्टीव और मार्क वा जैसे खिलाड़ी भाईयों ने इतिहास रचे। ‘फैमली कनैक्शन्स’ नामक चैप्टर में इसपर विस्तार से लिखा गया है। न्यूजीलैंड की सिग्नल सिस्टर्स के बारे में पढ़कर अच्छा लगेगा।

चमक-दमक और शोहरत के अलावा क्रिकेट के स्याह पहलू पर भी लेखक ने तफसील से प्रकाश डाला है। जब क्रिकेट में फिक्सिंग से दुनिया चौंक गयी, जब मशूहर क्रिकेट ने अपना गुनाह कबूला और जब क्रिकेटरों पर पाबंदी लगी -ऐसी बहुत-सी सच्चाईयां हैं जिन्हें पढ़कर मैदान के पीछे के खेल का पता चलता है।

वहीं कुछ ऐसे किस्से भी पढ़ने को मिलेंगे जो आपकी हंसी छूटने पर मजबूर कर सकते हैं।

क्रिकेट की रोचक यात्रा में आपका स्वागत है जो आपको जज़्बाती और उत्साही संसार से रूबरू कराएगी।

क्रिकेट में समय के साथ बदलाव आए हैं। खेलने का तरीका, मैदान में परिवर्तन, पहनावा, नियम और भी बहुत कुछ, जो इस किताब में दर्ज है, उसे पढ़कर आप अच्छी जानकारी हासिल कर सकते हैं। क्रिकेट पर ऐसी किताबें आसानी से उपलब्ध नहीं हैं जहां इस धड़कन वाले खेल का इतना स्पष्ट और सरल ब्यौरा दिया गया हो। इसे क्रिकेट की बेहद खास किताब कहा जाए तो अच्छी बात होगी।

"For The Love of CRICKET"
Graham Tarrant
Manjul Publishing House
Pages : 240

No comments