परिवर्तन और नये निर्माण की कथा है सागर-मन्थन

निर्माण की कथा सागर-मन्थन
नरेन्द्र कोहली ने अपनी कृतियों में पाठकों को हर बार नयापन देने की कोशिश की है.
'सागर-मन्थन' उपन्यास का नाम कुछ पौराणिक-सा लगता है किन्तु यह तनिक भी पौराणिक नहीं है। यह नरेन्द्र कोहली का पहला उपन्यास है, जो समकालीन है और विदेशी धरती पर लिखा गया है। विदेशी धरती ही नहीं, इसमें अनेक महाद्वीपों के लोगों के परस्पर गुँथे होने और एक नया संसार गढ़ने की कथा है। परिणामतः उनके हृदय में और परस्पर सम्बन्धों में अनेक विरोध भी हैं और अनेक विडम्बनाएँ भी। 'सागर-मन्थन' का प्रकाशन वाणी प्रकाशन ने किया है।

जहाँ इतिहास है, वहाँ उस ऐतिहासिक काल की कड़वाहट भी है, जिसे न आप भूल सकते हैं, न उसके कारणों को दूर कर सकते हैं। जहाँ वर्तमान है, वहाँ अपने मूल देश के प्रति प्रेम भी है और छिद्रान्वेषण भी। न स्वयं को अपने देश से असम्पृक्त कर सकते हैं और न ही उसको उसकी त्रुटियों के साथ स्वीकार कर सकते हैं। न देश के अपने को पाये, न पराये। न उसे स्वीकार कर पाये, न अस्वीकार। इसके चरित्र व्यक्ति नहीं हैं, वे प्रवृत्तियाँ हैं, जो अभी स्थिर नहीं हो पायी हैं। वे परिवर्तन की चक्की में पिस रहे हैं और अपने वास्तविक रुप को जानने का प्रयत्न कर रहे हैं। अपने देश को स्मरण भी करते हैं और उसे भूल भी जाना चाहते हैं। जिनके प्रति प्रेम है, उन्हें भूलना चाहते हैं; और जिन्हें प्रेम नहीं करते, उन्हें अपनाना चाहते हैं। उनसे मिलना भी चाहते हैं और उनसे दूर भी रहना चाहते हैं। कुल मिलाकर यह परिवर्तन और नये निर्माण की कथा है।

लेखक : नरेन्द्र कोहली

नरेन्द्र कोहली के लिखने का अंदाज़ अलग है, जिसे पढ़ना सुखद अनुभव है। उन्होंने अपनी कृतियों में पाठकों को हर बार नयापन देने की कोशिश की है। यह उपन्यास बेहद पठनीय है।

सागर-मन्थन
लेखक : नरेन्द्र कोहली
प्रकाशक : वाणी प्रकाशन
पृष्ठ : 310
इस पुस्तक को यहाँ क्लिक कर खरीदें >>

No comments