कविताओं की तीन ख़ास किताबें

hindi poetry best books
केदारनाथ सिंह, अरुण कमल और तेजी ग्रोवर के काव्य-संग्रह...
कवितायें भावों की बात करती हैं। कवितायें जीवन की बात करती हैं। सबसे अच्छी बात, कवितायें बदलाव की बात करती हैं। वाणी प्रकाशन ने ऐसी ही तीन पुस्तकें प्रकाशित की हैं जिनमें ज़िन्दगी के पड़ाव हैं, ढेरों उम्मीदें हैं, बोलते शब्दों का उजाला है जो पाठकों को नए विचारों और संस्कारों से रुबरु कराता है।

आँसू का वज़न
केदारनाथ सिंह ने शब्दों की लय को अलग मुकाम पर पहुँचाया है। वे यथार्थ और समाज पर रचनाओं का अद्भुत संसार रचते हैं। यह कविता संग्रह बेहद पठनीय है।

kedarnath singh poetry

केदार जी गहराई से शब्दों को आकार देते हैं -
कितनी लाख चीख़ों
कितने करोड़ विलापों-चीत्कारों के बाद
किसी आँख से टपकी
एक बूँद को नाम मिला-
आँसू

कौन बताएगा
बूँद से आँसू
कितना भारी है।

इस पुस्तक को क्लिक कर यहाँ से प्राप्त करें : https://amzn.to/2PmpnLP
केदारनाथ सिंह की सभी पुस्तकों को यहाँ क्लिक कर प्राप्त करें : https://amzn.to/2W2y1S8

योगफल
अरुण कमल ने मौजूदा परिप्रेक्ष्य में इस संग्रह में कई रचनाएँ रची हैं। उन्होंने देश और राजनीति पर खुलकर बात की है। वे रंग-बिरंगी कविताओं को अपनी खूबसूरत कूची से आकार देते हैं। कई बार भावुकता में खुद को समेट कर नया रंग उत्पन्न करते हैं। अरुण जी ने गहरे संदेश दिए हैं जो इस कविता-संग्रह को ख़ास बनाते हैं।

yogphal arun kamal poetry

'किस वतन के लोग' कविता से ये पंक्तियाँ देखें -
अन्तिम सन्दूक लिए
आखरी ढोर डांगर लिए
एक पाँव में चप्पल डाले
नंगे पाँव खाली देह लिए
ये कौन हैं, कौन लोग, ये कौन?
कहाँ जा रहे हैं इतने पाँव-
बंगलुरु से मुम्बई बागडोगरा
दिल्ली अनन्तनाग अबूझमाड़ दरभंगा से
अपने ही घर अपनी ही रसोई से-
ये किस देश किस वतन के लोग हैं?
कहाँ है इनका राष्ट्र इनकी भूमि?

हम जो चाहते थे सारी दुनिया को घर बनाना
आज अपना चूल्हा उठाये
भाग रहे यहाँ से वहाँ-
कहाँ हो मेरी माँ मेरी मातृभूमि?

इस पुस्तक को क्लिक कर यहाँ से प्राप्त करें : https://amzn.to/2VXACgc
अरुण कमल की सभी पुस्तकों को यहाँ क्लिक कर प्राप्त करें : https://amzn.to/2PpELXW

दर्पण अभी काँच ही था
तेजी ग्रोवर ने पाठकों को अपनी कविताओं के द्वारा सोचने पर विवश किया है। यहाँ शब्दों का मेल और उनका प्रभाव गहरा है।

darpan abhi kanch hi tha

संग्रह से निम्न पंक्तियाँ देखें -
तुम्हारी नाव की जलरेखा
चाँदी के दर्पण में
छप रही है पहाड़ों के अक्स पर

जहाँ इस घड़ी
विश्राम कर रही होंगी
श्वेताक्षरों की पंक्तियाँ

बिम्बों के सानिध्य में
कुछ भी,
कुछ भी हो गुज़रेगा
दर्पण से झिरती हुई रात में।

इस पुस्तक को क्लिक कर यहाँ से प्राप्त करें : https://amzn.to/2vhnEOC
तेजी ग्रोवर की सभी पुस्तकों को यहाँ क्लिक कर प्राप्त करें : https://amzn.to/2XrQSGo

No comments