‘जीवन के अद्भुत रहस्य’ बताने वाली पुस्तक

jeevan-ke-adbhut-rahasya-book-review
गौर गोपाल दास की यह किताब हमें ऐसी यात्रा पर ले जाती है जो हमारे लिए उपयोगी है.
जीवन कई नदियों का संगम है। यहां अनगिनत धारायें बहती हैं। हर पल उतार-चढ़ाव से भरा जीवन अलग-अलग रंगों से भरा हुआ है। आध्यात्मिक गुरु गौर गोपाल दास जीवन में संतुलन एवं उद्देश्य प्राप्ति के लिए हमें ज्ञान देते हैं। उनकी पहली पुस्तक 'जीवन के अद्भुत रहस्य' इसी पर आधारित है। इस पुस्तक का प्रकाशन पेंगुइन बुक्स ने किया है। यह ‘Life’s Amazing Secrets’ का हिंदी अनुवाद है। अंग्रेज़ी में पुस्तक की दो लाख से ज्यादा प्रतियाँ बिक चुकी हैं।

जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गौर गोपाल दास अपने मित्र हैरी से चर्चा करते हैं। यह किताब उसी पर आधारित है। लेखक कहते हैं कि जीवन का रहस्य उस संतुलन को ढूंढ़ना है जिससे जीवन संवरता है, उसका उद्देश्य पूर्ण होता है। यह किताब हमें ऐसी यात्रा पर ले जाती है जो हमारे लिए उपयोगी है। यह हमें खुद को समझने में मदद करती है।

गौर गोपाल दास कहते हैं कि हम सब किसी न किसी जगह या वजह से फँसे हुए हैं। हमें यात्रा पूरी करनी है और हमारे जीवन का ध्येय है, जो इस संसार में ही पूर्ण होना है।

gaur-gopal-das-hindi-book

वह कहते हैं कि हमारे मस्तिष्क के भीतर भी ट्रैफिक-जाम की स्थिति है। यही हमें हमारी वास्तविक क्षमता तक पहुँचने से रोकता है। इसके बाद गुरु गोपाल दास कहते हैं कि यदि हम जान जायें कि इस अवरोध को किस तरह हटाना है, तो हम खुद को जान जायेंगे। इससे हमारी बहुत सी समस्याओं का निराकरण हो जायेगा। यह योग्य जीवन के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगा।

सकरात्मकता के साथ जीवन जीने के विषय में लेखक ने अपना नज़रिया स्पष्ट किया है। वह कहते हैं कि सकारात्मक होने का यह अर्थ नहीं है कि हम नकारात्मकता को नज़रअंदाज़ करें। हमें रचनात्मक तरीके से सकारात्मकता पर नज़र रखते हुए, नकारात्मकता से निपटना चाहिए। कृतज्ञता जीवन की वह स्थिति है, जो हमें सकारात्मकता के साथ जीवन बिताना सिखाती है।

जैसे एक पौधा उगता है, रिश्ते भी उसी सिद्धांत पर चलते हैं : उन्हें लगातार देखभाल की ज़रूरत होती है, ताकि एक दिन उनपर फूल खिलें.
lifes-amazing-secret-in-hindi

पुस्तक में लियोनार्डो दा विंची के हवाले से कहा गया है कि सिकुड़ना छोटे दिमाग की प्रकृति है; जिनका हृदय दृढ़ होता है और विवेक जिनके आचरण की पुष्टि करता है, वे अपने सिद्धांतों का वहन मृत्यु आने तक करते हैं।

गौर गोपाल दास कहते हैं कि आधुनिक दुनिया की बनावट कुछ ऐसी हो गई है कि हमारे पास विराम का बटन दबाने और सुन्दरता को सराहने के लिए समय ही नहीं है। यानी ज़िन्दगी की भागदौड़ में हम खुद को आराम नहीं दे पा रहे, बस भागते जा रहे हैं -एक ऐसी अंधी दौड़ जिसका कोई ओर नहीं, कोई छोर नहीं है।  यही वजह है कि हमने अपने जीवन के असली मतलब को खो दिया है। सबसे खतरनाक बात यह है कि यह प्रक्रिया निरंतर जारी है।

'अगर हम धरती पर उपलब्ध श्रेष्ठतम संगीतज्ञ द्वारा बजाया गया मधुर संगीत सुनने के लिए कोई क्षण नहीं बचा सकते; आधुनिक जीवन का प्रवाह हमें दबाए जा रहा है और हम अपनी इस स्थिति के प्रति बहरे और अंधे हो गए हैं, तो सोचिए, हम क्या-क्या खो रहे हैं?'
gaur-gopal-das-hindi

चिंता पर गौर गोपाल दास ने बहुत ही सरलता से अपनी बात स्पष्ट की है। उन्होंने लिखा है कि जो चीज़ें हमारे नियंत्रण में नहीं होतीं, यानी बाहर होती हैं, उनके लिए हमें चिंता करने की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए। यह समय की बर्बादी है। उन्होंने व्हाट्सएप के संस्थापक का जिक्र करते हुए लिखा है कि उन्हें ट्विटर और फेसबुक पर आवेदन से नौकरी नहीं मिली, मगर भविष्य उनके पक्ष में था। इसलिए किसी एक समय में हमें जो बुरा लगता है, वह हमारे लिए बाद में सर्वश्रेष्ठ भी साबित हो सकता है। उन्होंने यहां उम्मीद नहीं छोड़ने और लगातार प्रयत्न करने के लिए पाठकों को प्रेरित किया है।

आध्यात्मिकता पर चर्चा करते हुए गौर गोपाल दास कहते हैं कि हम आध्यात्मिक अनुभव करने वाले मानवीय जीव नहीं हैं, बल्कि मानवीय अनुभव रखने वाले आध्यात्मिक जीव हैं। हम यह शरीर नहीं हैं; हम शरीर से परे हैं।

मंत्र उच्चारण को उन्होंने ईश्वर से जुड़ने का प्रभावकारी तरीका बताया है। हालांकि वे यह भी कहते हैं कि ईश्वर से जुड़ने के कई तरीके हो सकते हैं।

gaur-gopaldas-hindi-book

सुधारात्मक प्रतिक्रिया को लेखक ने एक कला बताया है। उन्होंने इसके चार सिद्धांत भी बताए हैं। साथ ही उन्होंने लिखा है कि संबंधों को मधुर बनाने के लिए हमें खुद को बदलना होगा। हमें ऐसा करने से बचना चाहिए, तभी हमारे संबंध बेहतर हो सकते हैं। यह जीवन को सुखमय बनाने में बेहद जरुरी है।

कुल मिलाकर यह पुस्तक हमें जीवन को सरल बनाने, उसे उन्नत तरह से जीने, सीखने-समझने, आदि के बारे में हमारा नज़रिया बदलती है। असल में यह किताब ज़िन्दगी के असली मायने सिखाती है। पुस्तक की भाषा बेहद सरल और रोचक है। लेखक ने जिस तरह उदाहरण देकर अपनी बात को समझाया है वह बहुत उपयोगी साबित हुआ है। पाठकों को इस पुस्तक को जरुर पढ़ना चाहिए ताकि जीवन को बेहतर तरह से जीने के आसान तरीके वे अपना सकें, और अपने जीवन को सफल बना सकें।

jeevan-ke-rahasya-book
book-link

No comments